Hindusthan Samachar
Banner 2 सोमवार, अक्तूबर 22, 2018 | समय 13:12 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

जिलाधिकारी व अन्य अधिकारियों के विरुद्ध जांच की मांग

By HindusthanSamachar | Publish Date: Jun 1 2018 3:18PM
जिलाधिकारी व अन्य अधिकारियों के विरुद्ध जांच की मांग
इटानागर, 01 जून (हि.स.)। अरुणाचल प्रदेश के लोवर सुवनसिरी जिला याजाली के ट्रांस अरुणाचल हाईवे (टीएएच) मुआवजे से वंचित फोरम ने गुरुवार को जिलाधिकारी, डीएलआरएसओ और पीडब्ल्यूडी एई पर मुआवजा वितरण में अनियमितता का आरोप लगाते हुए शीघ्र इस मामले की सीबीआई से जांच की मांग की है। फोरम के प्रवक्ता बेंगिया टोलम ने आरोप लगाया है कि जिला प्रशासन ने 43 नकली लाभार्थियों को मुआवजे का भुगतान किया है। इन लाभार्थियों का टीएएच के साथ कोई लेना देना नहीं है। यह सभी रिपोर्ट आरटीआई के जरिए सामने आई है। उन्होंने कहा कि इसमें करोड़ों रुपए का घोटाला हुआ है, जिसमें काफी संख्या में अधिकारी भी शामिल हैं। फोरम ने कहा कि पहले इस महीने की शुरुआत में इस मुद्दे को उठाए जाने के बाद राज्य सरकार ने गृह आयुक्त एसी वर्मा की अध्यक्षता में एक उच्च स्तरीय समिति गठित की ताकि मामले की जांच हो सके। टोलम ने आरोप लगाया है कि जिलाधिकारी केमो लोलेन, डीएलआरएसओ भारत लिगू, और पीडब्ल्यूडी एई तोको ताज ने जमीन के मूल्यांकन में भी छेड़छाड़ की और बहुत से फर्जी लाभार्थियों को पैसे का भुगतान किया, जिनकी इमारतें टीएएच के आसपास भी नहीं है। टोलम ने उदाहरण के रूप में चेनेज संख्या 11.215 से 11.310 किमी, और चेनेज संख्या 16.745 से 16.830 किमी का हवाला दिया। हिन्दुस्थान समाचार /तागू/ अरविंद
image