Hindusthan Samachar
Banner 2 सोमवार, जून 18, 2018 | समय 17:25 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

चकमा व हाजोंग शरणार्थियों को नागरिकता देना स्वीकार नहीं : आपसू

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 28 2018 5:43PM
चकमा व हाजोंग शरणार्थियों को नागरिकता देना स्वीकार नहीं : आपसू
इटानगर, 28 अप्रैल (हि.स.)। अखिल अरुणाचल प्रदेश छात्र संघ (आपसू) ने कहा है कि राज्य के स्थानीय लोग अरुणाचल प्रदेश में चकमा और हाजोंग शरणार्थियों को नागरिकता का अधिकार देने के के मामले को कभी भी स्वीकार नहीं करेंगे। शरणार्थी मुद्दे पर 5वें संयुक्त उच्चस्तरीय समिति की बैठक में शामिल होने के बाद, संघ ने शुक्रवार को एक बयान जारी करते हुए मांग की कि चकमा और हाजोंग को चुनाव में और कोई नया नामांकन रोल नहीं देना चाहिए। एमएचए संयुक्त सचिव (एनई) सत्येंद्र गर्ग की अध्यक्षता में बैठक आयोजित की गई थी। इसमें एमएचए संयुक्त सचिव (विदेश) अनिल मलिक, अरुणाचल प्रदेश के गृह सचिव जीएस मीना, आपसू कार्यकारी सदस्य, कानूनी सलाहकार नाबाम जोला और मार्टो कार्तो और चकमा और हाजोंग संगठनों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया। आपसू ने कहा कि हमने चुनावी रोल में नामांकित चकमा और हाजोंग शरणार्थियों के सभी नामों को तत्काल हटाने की मांग की है, क्योंकि अरुणाचल प्रदेश में चकमा और हाजोंग भारत के नागरिक नहीं हैं। आपसू के बयान में कहा गया है कि नागरिक अधिकार को देने के मामले तक ताजा नामांकन की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। आपसू अध्यक्ष हवा बागांग ने देश के कानूनी प्रावधानों का हवाला दिया जो राज्य के लोगों की रक्षा करता है। छात्र संगठन ने शरणार्थियों की आबादी अस्वाभाविक वृद्धि पर भी चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि वर्तमान में यह 3 लाख को पार कर चुकी है। शरणार्थियों के आपराधिक गतिविधियों की संलिप्तता को उजागर करते हुए आपसू ने कहा है कि नवीनतम रिकॉर्ड के अनुसार चकमा और हाजोंग शरणार्थियों के खिलाफ 493 मामले दर्ज किए गए हैं। बताया गया है कि 2011 से 2017 तक चकमा और हाजोंग के खिलाफ पंजीकृत मामलों की संख्या में कई गुणा वृद्धि हुई है। विशेष रूप से आरक्षित वन क्षेत्रों में। केंद्र सरकार, अरुणाचल प्रदेश सरकार के परामर्श से उन आवेदकों की पहचान और सत्यापन करनी चाहिए जिन्होंने नागरिकता के लिए आवेदन जमा किए हैं। साथ ही चकमा और हाजोंग शरणार्थियों द्वारा किए गए आपराधिक गतिविधियों के सभी मामलों को रिकॉर्ड करना होगा। हिन्दुस्थान समाचार /तागू/ अरविंद/राधा रमण
image